✒️संजय वर्मा-गोरखपूर,चौरा चौरी(प्रतिनिधी)मो:-9235885830

गोरखपुर(दि.10ऑक्टोबर):-उक्त बातें मुंडेरा बाजार कांग्रेस नगर अध्यक्ष संजू वर्मा ने सृष्टि रोड मुंडेरा बाजार वार्ड नंबर 6 अपने आवास पर कही Iदेश को आजाद हुए चौहत्तर साल हो गए और इन सालों में भारत ने असीम विकास किया। लेकिन एक जो बड़ा मुद्दा आमतौर पर अनदेखी का शिकार रहा है, वह है- विकास के साथ जानवरों की बिगड़ती हालत।

भारत में निरंतर विकास चल रहा है, नई इमारतें खड़ी हो रही हैं, नई आवासीय कॉलोनियां बन रहीं हैं, कृषि करने वाले खेत आवासीय भूमि में बदलते जा रहे हैं, लेकिन इन सब विकास के बीच एक चीज भारत सरकार और भारत के लोग भूलते जा रहे हैं कि इस विकास के साथ भारत में रहने वाले जानवरों की हालत क्या होती जा रही है। पहले जानवरों के पास खाली मैदान होते थे, पेड़-पौधे होते थे, जहां वे अपना आवास या ठिकाना बना कर अपना जीवनयापन करते थे।

जंगल होते थे, जहां से उन्हें खाद्य पदार्थ मिल जाता था, लेकिन वर्तमान निरंतर विकास की अवस्था को देखकर ऐसा लगता नहीं कि जानवरों के लिए सरकार या भारत के लोगों के भीतर कोई फिक्र है। सड़कों में जानवर इधर-उधर खाने के लिए मुंह मारते हैं, कूड़ा-कचरा खा जाते हैं। सड़कों पर जानवरों के झुंड लेटे रहते हैं, तमाम जोखिम के बीच। कई बार हादसों में उनकी मौत हो जाती है, लेकिन लोग अपनी वर्तमान दुनिया और विकास करने में इतने मशगूल हैं कि इस ओर उनका ध्यान भी नहीं जाता है कि जानवर भी हमारे बीच की ही कड़ी हैं।जिस तरह हमारे देश की जनसंख्या लगातार बढ़ती जा रही है, ठीक उसी प्रकार भारत में जानवरों की संख्या भी बढ़ी है, लेकिन उनके संरक्षण के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयास भी सार्थक परिणाम नहीं दे रहे हैं।

कुल जानवरों में पालतू जानवरों की संख्या काफी कम है। उनमें भी जो पालतू जानवर दूध नहीं देते हैं, उनको आवारा पशुओं की तरह सड़कों पर छोड़ दिया जाता है। ऐसी स्थिति में भारत सरकार को चाहिए कि वह जानवरों के समुचित देखभाल के लिए कोई विस्तृत योजना तैयार करे। विकास के लिए जिस प्रकार मनुष्य का होना आवश्यक है, ठीक उसी प्रकार जानवरों की भी अपनी उपयोगिता है। जानवरों से अनेक प्रकार के लाभ हैं, जिनकी जानकारी भारत के लगभग सभी लोगों को है, पर उनके संरक्षण के विषय में कोई सार्थक प्रयास नहीं होता है। समृद्धि के साथ-साथ सर्वांगीण विकास किसी देश के विकसित होने का सूचक होता है।

राष्ट्रीय, सामाजिक 

©️ALL RIGHT RESERVED