मेक इन इंडिया केंद्रशासन का योग्य निर्णय

मेक इन इंडिया भारत सरकार का महत्वपूर्ण फैसला आहे है l फैसले का हम सभी भारतीय नागरिकोने गर्व करने की और इस का समर्थन करने की आवश्यकता है l अपने देश को समृद्ध परंपरा ये जसे प्रकृती विज्ञान अनुसंधान आयुर्वेद, उचित अध्ययन संस्कृती वैभवशाली परंपरा है l जिसका पूरी दुनिया को अभिमान है l स्वातंत्र्य पूर्व काल में, हमारे महापुरुषों ने आगे आकर गुलामगिरी को छोडकर देश को आजादी दिलायी l और इसके लिये बहुत कठीण संघर्ष किया है l l उस वक्त हमारे महापुरुषोंने स्वदेशी का महत्त्वपूर्ण बिंदू पेश किया था l बढते वैश्वीकरण के साथ, विभिन्न क्षेत्रोमे महत्त्वपूर्ण और आधुनिक शोध किये गये है l हमारे समाज मे भी कई पारंपरिक तरिकोंको अपनाया है और बढते जागतिकीकरण के साथ आधुनिकता का भी स्वीकार किया है l विभिन्न घरेलू सामान, इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण और एक्कीसवी सदी मे भोजन,भाषा और कला, खेल स्वास्थ्य क्रीडा इत्यादी क्षेत्रोमे कई बदलाव स्वीकार किए है l

विशेषतः आयुर्वेद और योग हमारे देश की उज्वल परंपरा है l दुनिया में इसकी किमत अनमोल है l लेकिन दुर्भाग्य मे हम इसे भुला रहे है l विदेशी कंपनीने हमारे देश में बहुत बडा निवेश किया है l यह एक गंभीर समस्या है l इसके लिए सरकार के साथ हम सब लोगों के मन मे स्वदेशी का महत्व जागृत करने की और एक कदम आगे बढकर इस समस्या का मुकाबला करना चाहिए lमेक इन इंडिया योजना हम सभी ने अपना पहला कर्तव्य मानकर सफलतापूर्वक लागू करने की आवश्यकता है l आज हमारे पास विभिन्न क्षेत्रोंमे प्रवीनता प्राप्त हुए युवा शक्ती है l जो बुद्धिमान और कर्तव्यवान है l लेकिन इस युवा शक्ती को विदेश जाने से रोक कर इस गंभीर प्रश्न का हल निकालना चाहिए l हमारे युवक वर्ग को उनके प्रतिभा को हमारे देश में ही एक नयी उपलब्धी बनानी चाहिए l पाश्चिमात्य संस्कृती को भुला कर हमारी आदर्श संस्कृती हमे आत्मसात करणे चाहिए l यहा के युवापिढी को अपने देश में रोजगार कि संधी देनी चाहिए l और मेकिंग इंडिया का महत्व समाज के सभी स्तर मे पहुचाना चाहिए l

✒️लेखक:-अमोल मांढरे वाई जि सातारा महाराष्ट्र
मोबाइल – 7709246740

महाराष्ट्र, सामाजिक 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

©️ALL RIGHT RESERVED