संपन्नों के मुकाबले एक गरीब भूविस्थापित को मैदान में उतारा माकपा ने, जवाहर सिंह कंवर होंगे कटघोरा से माकपा प्रत्याशी

146

🔹CPI(M) has fielded a poor displaced person against the rich millionaires, Jawahar Singh Kanwar will be the CPI(M) candidate from Katghora

✒️कोरबा(पुरोगामी न्यूज नेटवर्क)

कोरबा(दि.20ऑक्टोबर):- मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने कटघोरा विधानसभा क्षेत्र से जवाहर सिंह कंवर को अपना प्रत्याशी घोषित किया है। एक उत्साह भरे वातावरण में पार्टी के जिला कार्यालय बांकी मोंगरा में पार्टी समर्थकों की एक बैठक में पार्टी के जिला सचिव प्रशांत झा ने उनके नाम की घोषणा की। बैठक में पार्टी और सीटू के नेता वीएम मनोहर और एसएन बेनर्जी, नंदलाल कंवर, दीपक साहू, देवकुंवर कंवर तथा माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर भी उपस्थित थे। बैठक में कुसमुंडा, गेवरा तथा दीपका खदान से प्रभावित भू विस्थापितों के साथ निगम क्षेत्र के कार्यकर्ता और मजदूर बड़ी संख्या में उपस्थित थे। माकपा राज्य सचिव एम के नंदी ने पहले ही जवाहर के नाम का अनुमोदन कर दिया था।

आज यहां जारी एक बयान में माकपा जिला सचिव प्रशांत झा ने कहा है कि कांग्रेस-भाजपा के संपन्न करोड़पतियों के मुकाबले माकपा ने एक गरीब भूविस्थापित और संघर्षों के अगुआ आदिवासी नेता को मैदान में उतारा है। जवाहर सिंह कंवर माकपा जिला सचिवमंडल के सदस्य हैं और पिछले तीन वर्षों से छत्तीसगढ़ किसान सभा के जिला अध्यक्ष हैं। माकपा और किसान सभा व सीटू द्वारा बिजली-सड़क-पानी जैसी बुनियादी मानवीय सुविधाओं, भूविस्थापितों के पुनर्वास और रोजगार से जुड़े मुद्दों और खेती-किसानी की समस्याओं पर इस दौरान जितने आंदोलन किए गए हैं, उनमें उन्होंने अगुआ नेता की भूमिका निभाई है। भूविस्थापितों के आंदोलन में उन्हें पुलिस की मार और जेल की हवा भी खानी पड़ी है। इस सबके कारण उनकी एक संघर्षशील नेता के रूप में छवि बनी है।

उल्लेखनीय है कि जवाहर कंवर की पत्नी राजकुमारी कंवर कोरबा नगर निगम में माकपा पार्षद हैं। जवाहर का परिवार पहले दर्री बांध निर्माण के समय और बाद में एसईसीएल द्वारा भूमि अधिग्रहण के चलते दो बार विस्थापित हो चुका है और पुनर्वास तथा रोजगार के साथ बसावट भूमि के पट्टे, पूर्व में अधिग्रहित जमीन किसानों को वापस करने और बुनियादी मानवीय सुविधाओं के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

माकपा नेता झा ने कहा है कि माकपा गरीबों के पसीने और संघर्ष का सम्मान करती है। एक सामान्य सीट से माकपा द्वारा आदिवासी समाज से जवाहर कंवर को प्रत्याशी बनाए जाने से आदिवासी समाज, भूविस्थापितों और ग्रामीण गरीबों के सम्मान और अधिकारों की लड़ाई को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस-भाजपा की कॉरपोरेटपरस्त नीतियों के विकल्प के रूप में माकपा पूरी दमदारी से चुनाव लडेगी और कोरबा नगर निगम की तरह पहली बार छत्तीसगढ़ विधानसभा में भी वामपंथ का प्रवेश तय है।

 

*CPI(M) has fielded a poor displaced person against the rich millionaires, Jawahar Singh Kanwar will be the CPI(M) candidate from Katghora*

 

Korba- Communist Party of India (Marxist) has declared Jawahar Singh Kanwar as its candidate from Katghora assembly constituency. His name was announced by party district secretary Prashant Jha at a meeting of party supporters at the party’s district office Banki Mongra in an enthusiastic atmosphere. Party and CITU leaders VM Manohar and SN Banerjee, Nandlal Kanwar, Deepak Sahu, Devkunwar Kanwar and CPI(M) councilor Rajkumari Kanwar were also present in the meeting. A large number of workers and laborers along with land displaced people affected by Kusmunda, Gevra and Deepka mines were present in the meeting. CPI(M) state secretary MK Nandy had already approved Jawahar’s name.

In a statement issued here today, CPI(M) District Secretary Prashant Jha has said that against the rich millionaires of Congress-BJP, CPI(M) has fielded a poor land displaced tribal leader and leader of the struggles. Jawahar Singh Kanwar is a member of the CPI(M) District Secretariat and has been the District President of Chhattisgarh Kisan Sabha for the last three years. During this period, he has played the role of a leader in all the movements organized by CPI(M), Kisan Sabha and CITU on basic human facilities like electricity, roads and water, issues related to rehabilitation and employment of land displaced people and problems of farming. During the movement of land displaced people, he had to face police beatings and even jailed. Due to all this, his image has been created as a struggling leader.

It is noteworthy that Jawahar Kanwar’s wife Rajkumari Kanwar is a CPI(M) councilor in Korba Municipal Corporation. Jawahar’s family has been displaced twice, first during the construction of Darri Dam and later due to land acquisition by SECL, and his family is struggling for rehabilitation and settlement along with employment, lease of land, return of previously acquired land to farmers and basic human amenities.

CPI(M) leader Jha has said that CPI(M) respects the struggle of the poor. CPI(M)’s nomination of Jawahar Kanwar from the tribal community from a general seat will help in taking forward the fight for the dignity and rights of the tribal community, land displaced people and rural poor. He has said that as an alternative to the pro-corporate policies of Congress-BJP, CPI(M) will contest the elections with full force and like Korba Municipal Corporation, the entry of Left wing in Chhattisgarh Assembly is also certain for the first time.