दूषित खानपान,जंक फूड की लत और उसकी वजह से बढ़ते जीवन-शैली में रोग

34

✒️संजय वर्मा-गोरखपूर, चौरा चौरी(प्रतिनिधी)मो:-9235885830

गोरखपुर(दि.3नोव्हेंबर):-उक्त बातें वरिष्ठ समाजसेवी संजू वर्मा चौरी चौरा मुंडेरा बाजार सृष्टि रोड वार्ड नंबर 6 अपने आवास पर कही।दूषित खानपान, जंक फूड की लत और उसकी वजह से बढ़े जीवन-शैली के रोगों ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित किया है!आज किशोरों पर मोटापे और युवाओं पर जो हृदय रोगों का साया पड़ रहा है, उसका भी प्रमुख कारण यही है!

शौकिया जंक फूड (पित्जा, पास्ता, बर्गर्स, परांठे, समोसा, मांसाहारी भोजन) खाने वालों को भी धूम्रपान और मादक पदार्थों के सेवन की तरह उसकी लत लग सकती है।

आलू के चिप्स खाने वालों पर फ्लोरिडा किस्क्रिप्स रिसर्च इंस्टिट्यूट ने शोध करके पाया कि वे जरूरत से ज्यादा खा जाते हैं और स्वास्थवर्धक आहार से धीरे-धीरे दूर होते चले जाते हैं। इनके मोटे होने के अवसर लगभग दस प्रतिशत हैं।

जंक फूड खाने वाले चूहों में मोटापा पाया गया और उनके मस्तिष्क में वैसा ही असर दिखाई दिया, जैसा हेरोइन या कोकीन लेने वालों में होता है!आज देश के शहरी-कस्बाई बच्चों में भी मोटापा और अन्य रोग तेजी से बढ़ रहे हैं। इनकी बुद्धिमत्ता (आईक्यू) भी प्रभावित हो रही है। इसका कारण पाश्चात्य शैली का खान पान है।